दून में सेवा के नाम पर अवैध वसूली करने वाले सक्रिय

देहरादून:  कोरोनाकाल में जरूरतमंदों की सेवा के नाम पर भी फर्जीवाड़ा करने से कुछ लोग बाज नही आ रहे है। कुछ जालसाज किस्त के लोग कोरोना से प्रभावित व्यक्तियों की मदद के बहाने घर-घर जाकर रुपये और राशन एकत्र कर रहे हैं। गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा के नाम पर वसूली का ऐसा ही एक मामला सामने आया है।

इसके बाद गुरुद्वारा कमेटी ने शहरवासियों को सतर्क करते हुए घर आकर गुरुद्वारा के नाम पर सामान या धन मांगने वालों को उनकी मांग पूरी करने के बजाय पुलिस को सूचना देने की अपील की है। इसके अलावा गुरुद्वारा कमेटी की तरफ से भी ऐसे व्यक्तियों की सूचना देने के लिए दो हेल्पलाइन नंबर 9897545422 व 9837157753 जारी किए गए हैं।

गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा के प्रधान गुरबक्श सिंह राजन ने बताया कि गुरुद्वारा की तरफ से कोरोनाकाल में आक्सीजन वितरण, राशन वितरण और लंगर की सेवा की जा रही है। कुछ असामाजिक तत्वों ने इसका दुरुपयोग करना शुरू कर दिया है। राजन के अनुसार, सरस्वती विहार (अजबपुर खुर्द) निवासी रजनी शर्मा ने गुरुवार को फोन पर जानकारी दी कि सुबह दो लोग उनके घर पहुंचे।

उन्होंने गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा का नाम लेकर कोरोना से प्रभावित व्यक्तियों की सहायता के लिए सहयोग देने को कहा। इसपर रजनी ने कुछ रुपये देने चाहे, मगर युवकों ने आटा, चावल व अन्य राशन देने पर भी जोर दिया। रजनी ने पूछताछ शुरू की तो दोनों युवक बिना उत्तर दिए चले गए।

गुरुद्वारा कमेटी के महासचिव गुलजार सिंह ने शहरवासियों से ऐसे व्यक्तियों से सतर्क रहने की अपील की है। उनका कहना है कि गुरुद्वारा की तरफ से ऐसा कोई अभियान नहीं चलाया गया है।

विषम परिस्थितियों का फायदा उठाकर गुरुद्वारा के नाम से वसूली करना निंदनीय है। कहा कि शहरवासी पुलिस के साथ गुरुद्वारा को भी हेल्पलाइन नंबर पर कॉल कर ऐसे व्यक्तियों की सूचना दे सकते हैं। ऐसे व्यक्तियों की तलाश कर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आचार्यकुलम में पढ़ रहेे तीन बच्चों को किया उनके अभिभावकों के सुपुर्द

हरिद्वार:  योगगुरु बाबा रामदेव के आचार्यकुलम में पढ़ रहे छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले के तीन बच्चों को प्रशासनिक मदद से उनके अभिभावकों के सुपुर्द किया गया है। अभिभावकों का आरोप है कि आचार्यकुलम प्रबंधन ने बच्चों को उन्हें सौंपने से इनकार कर दिया था। इस पर उन्होंने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री […]