दायित्वधारियों से किनारा कर सकती है तीरथ सरकार!

Ghughuti Bulletin

-दायित्व बाॅंटने से कार्यकर्ताओं में बढ़ सकती है नाराजगी 

-संगठन में बदलाव के संकेत

देहरादून:  प्रदेश की तीरथ सरकार अब जल्द ही दायित्वधारियों से किनारा कर सकती है। राजनीतिक गलियारों में  इस तरह की चर्चाएं होने लगी है।

ऐसा माना जा रहा है कि इससे जहां फिजूलखर्ची को लेकर सरकार बड़ा संदेश देगी तो वहीं, कार्यकर्ताओं की नाराजगी को साधने का भी यह एक तरीका हो सकता है।

दरअसल, बीते रोज प्रदेश कार्यालय पर बीजेपी ने 41वां स्थापना दिवस मनाया। इसी दौरान कार्यक्रम के बाद प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक और मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत से यह जानने की कोशिश की गई कि हाल ही में पार्टी के 120 दायित्वधारियों की छुट्टी की गई, क्या एक बार फिर से सरकार दायित्वधारियों की सूची जारी करेगी।

जिस पर मुख्यमंत्री तीरथ ने कोई जवाब नहीं दिया। हालांकि, प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने संगठन में बदलाव की बात जरूर कही।

वहीं, अब जानकारी मिल रही है कि तीरथ सरकार दायित्वधारियों से किनारा कर सकती है। ऐसा कर सरकार एक तीर से दो निशाने करने जा रही है।

जहां एक तरफ बीजेपी दायित्वधारियों की नियुक्ति न करके जनता में सरकारी सुविधाओं के फिजूलखर्ची न होने का संदेश देगी। तो वहीं, इस बात का भी अंदेशा संगठन को है कि दायित्व अगर बांटे जाते हैं तो उससे कार्यकर्ताओं में नाराजगी बढ़ेगी।

चुनावी साल में यह नाराजगी महंगी साबित हो सकती है। इसलिए दायित्व बंटवारे से बचा जा सकता है तो इस तरह से. अब तक यह माना जा रहा है कि सरकार और संगठन दायित्वों को लेकर किनारा करने के मूड में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

देव डोलियों के कुम्भ स्नान की सभी तैयारियाॅ व्यवस्थित रूप से की जायेंः महाराज

-उत्तराखण्ड की देवसंस्कृति को वैश्विक तथा भव्य स्वरूप प्रदान करने की पहल देहरादून:  प्रदेश के कबीना मंत्री  सतपाल महाराज ने विधान सभा स्थित कक्ष में संस्कृति विभाग, पर्यटन विभाग, कुम्भ मेला, पुलिस विभाग एवं अन्य सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक की। जिसमें महाराज ने उत्तराखण्ड की देवसंस्कृति को वैश्विक […]