चारधाम: हैली सेवा के किराए में हो सकती है बढ़ोतरी, कंपनियों ने की मांग

Ghughuti Bulletin

देहरादून: प्रदेश में महंगाई दिन ब दिन बढ़ती जा रही है।हर नागरिक को बढ़ती महंगाई की मार झेलनी पड़ रही है।वही अब बढ़ती महंगाई की मार अब चारधाम यात्रा में केदारनाथ हेली सेवा पर भी पड़ सकती है। दरअसल एविएशन टर्बाइन फ्यूल (एटीएस) के दाम में 40 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है जिसके कारण केदारनाथ हेली सेवा का किराया भी बढ़ सकता है। इस संबंध में हेली कंपनियों की ओर से सरकार से किराया बढ़ाने देने की मांग की गई है। हेली एविएशन एसोसिएशन की ओर से दिए किराया बढ़ोतरी के प्रस्ताव को जल्द ही सरकार के समक्ष रखा जाएगा।

बता दे कि उत्तराखंड नागरिक उड्डयन विकास प्राधिकरण (यूकाडा) ने केदारनाथ धाम के लिए गुप्तकाशी, सिरसी और फाटा से हेली सेवा संचालित करने को नौ कंपनियों के साथ तीन साल का अनुबंध किया है। जिसमें गुप्तकाशी से केदारनाथ के लिए एरो एयर क्राफ्ट, आर्यन एविएशन, फाटा से केदारनाथ के लिए पवन हंस, चिपसन एविएशन, थंबी एविएशन, पिनाक्ल एयर और सिरसी से केदारनाथ के लिए एरो एयर क्राफ्ट, हिमालयन हेली व केट्रल एविएशन शामिल हैं। वहीं कोरोना महामारी के कारण दो साल चारधाम यात्रा प्रभावित रही। जिससे हेली सेवा का संचालन भी नहीं हो पाया।

वहीं,इस बार भी अनुबंध के अनुसार हेली कंपनियों ने किराये में कोई वृद्धि नहीं की थी। लेकिन अब एटीएस के दाम में 40 प्रतिशत वृद्धि होने पर हेली कंपनियों का कहना है कि वर्तमान में तय किराये में हेली सेवा संचालन करना मुश्किल है। हेली एविएशन एसोसिएशन की ओर सचिव नागरिक नागरिक उड्डयन से किराया बढ़ोतरी में छूट देने की मांग की गई है।

एटीएस के दाम बढ़ने से हेली एविएशन एसोसिएशन की तरफ से केदारनाथ हेली सेवा का किराया बढ़ाने का प्रस्ताव दिया गया है। इस पर सरकार ही फैसला लेगी। जल्द ही मुख्यमंत्री के समक्ष इस प्रस्ताव रखा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

मुख्यमंत्री से आगन्तुकों की भेंट एवं मुलाकात करने के लिए समय सारणी निर्धारित

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का जनहित में आगन्तुकों से मिलने की सुविधा हेतु समय सारणी का निर्धारण किया गया है। मुख्यमंत्री सोमवार एवं मंगलवार को पूर्वाहन 9 से 09ः30 तथा सांय 06 बजे से 07 बजे तक, सांसद व मंत्रियों से भेंट करेंगे। मुख्यमंत्री के वरिष्ठ निजी सचिव भूपेंद्र […]