सीएम तीरथ ने मां गंगा से प्रदेशवासियों की खुशहाली और सुख-समृद्धि की कामना की

-महाशिवरात्रि पर महाकुम्भ में पहले शाही स्नान में संतों का स्वागत किया
-गंगा सभा के पदाधिकारियों ने सीएम का गंगाजली, प्रसाद और चुनरी भेंट कर किया स्वागत

हरिद्वार: महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने आज हरिद्वार में हर की पैड़ी पहुंचकर मां गंगा से प्रदेशवासियों की खुशहाली और सुख-समृद्धि की कामना की।

इस अवसर पर शाही स्नान के लिए मां गंगा के तट पर आए साधु-संतों और श्रद्धालुओं का मुख्यमंत्री ने स्वागत किया।

इस अवसर पर श्री गंगा सभा के पदाधिकारियों ने भी मुख्यमंत्री श्री रावत का गंगाजली, प्रसाद और चुनरी भेंट कर स्वागत किया। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने सभी साधु-संतों का आभार माना।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर मां गंगा में शाही स्नान करने के लिए श्रद्धालु रात से ही जुटने लगे थे। जनता की सुविधा के लिए हमारी सरकार ने सभी इंतजाम कर रखे हैं। कई श्रद्धालुओं ने अलसुबह स्नान किया और वे सुरक्षित अपने घरों को लौटे। इसके पश्चात अखाड़े के साधु-संतों का स्नान शुरू हुआ और सभी ने शांतिपूर्ण तरीके से स्नान किया।

सभी अखाड़े के साधु संतों का स्नान होने के पश्चात फिर जनता ने स्नान किया। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कुंभ में जनता के लिए कोई भी रोक-टोक नहीं है, किसी से भी सख्ती नहीं की जाएगी।

उन्होंने जनता से निवेदन किया कि कोविड-19 से बचाव की गाइडलाइन का पालन करने के साथ ही मास्क पहनने व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज कुंभ का प्रथम शाही स्नान है। इसे विशेष बनाने के लिए सभी साधु-संतों का पुष्पवर्षा कर स्वागत किया गया।

उन्होंने कहा कि सभी साधु-संत काफी खुश नजर आ रहे हैं साथ ही प्रशासन भी जनता की समस्याएं दूर करने के लिए मुस्तैदी से लगा है। उन्होंने कहा कि दिव्य, भव्य और सुरक्षित कुंभ के आयोजन के लिए हमारी सरकार प्रतिबद्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

केदारनाथ धाम के कपाट 17 मई प्रातः 5 बजे खुलेंगे

उखीमठ (रूद्रप्रयाग):  इस यात्रा वर्ष श्री केदारनाथ धाम के कपाट 17 मई सोमवार को प्रातः 5 बजे खुलेंगे। जबकि 14 मई को श्री केदार बाबा की चल विग्रह पंचमुखी डोली ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ से केदारनाथ धाम को  प्रस्थान करेगी। आज शिवरात्रि के अवसर पंचांग गणना पश्चात विधि-विधान पूर्वक पंचकेदार गद्दीस्थल […]