मलबा आने से मालदेवता में रास्ता बाधित,जौनसार की 16 संड़के बंद ,लगातार तेज बारिश से नदियां उफान पर

Ghughuti Bulletin

देहरादून:  मालदेवता रोड पर सड़क पर मलबा आने के कारण पहाड़ों को जाने वाला रास्ता बाधित है। किसी तरह की जनहानि नहीं है। जेसीबी से सड़क पर मलबा हटाने का कार्य किया जा रहा है। बारिश से जगह-जगह पहाड़ दरकने से जौनसार बावर में कालसी-चकराता मोटर मार्ग समेत 16 रास्ते बंद हो गए।

जौनसार बावर की लाइफ लाइन कहलाने वाले कालसी चकराता मोटर मार्ग पर जजरेड पहाड़ी पर हुए भूस्खलन के चलते भारी मात्रा में मलबा आने से यातायात बाधित हो गया है। इससे जौनसार बावर के किसान अपनी कृषि उपज को मंडी भी नहीं ले जा पाए, जहां-तहां टमाटर मूली मिर्च आदि ऊपर से भरे वाहन खड़े हुए हैं, वाहनों में बैठे किसान यातायात सुचारू होने के इंतजार में है।

भारी बारिश से लोक निर्माण विभाग साहिया खंड के नौ और पीएमजीएसवाई कालसी के सात रास्ते बंद हुए। इससे जनजाति क्षेत्र जौनसार बावर कि ग्रामीण गांव में कैद होकर रह गए हैं। आवागमन ठप होने से जौनसार बावर में जनजीवन प्रभावित हुआ है। विभागों के अधिशासी अभियंता ने मौके पर मलबा हटाने के लिए जेसीबी भेजी है।

-कैंपटी फाल ने लिया विकराल रूप

मसूरी में पूरी रात हुई मूसलाधार बारिश से कैंपटी फाल ने विकराल रूप ले लिया है। इसे देखते हुए पुलिस ने फाल के आस-पास के दुकानों को खाली करवाया है। इसके साथ ही पर्यटकों को कैंपटी फाल पर जाने से फिलहाल रोक दिया गया है।

मसूरी स्थित प्रसिद्ध पर्यटन स्थल केम्प्टी फॉल्स का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें साफ तौर पर दिख रहा है कि झरने में पानी खतरनाक लेवल पर है और बहाव बहुत तेज है। याद दिला दें कि यह वही स्थान है, जहां पिछले दिनों भारी संख्या में पर्यटकों के जमावड़े को लेकर हंगामा मचा था।

प्रदेश में अन्य नदी-नाले भी उफान पर हैं। वहीं, गंगोत्री-यमुनोत्री और बदरीनाथ हाईवे जगह-जगह भूस्खलन होने से अवरुद्ध हो गया है। दून में रात से ही समेत कई हिस्सों में तेज बारिश हो रही है। सड़कें तालाब बन गई है, जिससे आमजन को परेशानियों का सामना करना पड़ा रहा है।

मौसम विभाग के अनुसार 31 जुलाई तक मौसम के मिजाज में ज्यादा बदलाव की उम्मीद नहीं है। विभाग ने 28 और 29 जुलाई के लिए देहरादून और नैनीताल समेत सात जिलों के लिए आरेंज अलर्ट जारी किया है।

-भारी बारिश के चलते बकरालवाला में पुल टूटा

देर रात से चल रही बारिश के चलते दून स्थित बकरावाला क्षेत्र में एक पुल टूट गया है। यह एक छोटी पुलिया थी, जिस पर चौपहिया वाहन भी चलते थे।

सूचना मिलने के बाद सुबह बकरालवाला में भारी बारिश से उत्पन्न क्षति के कारण टूटे हुए पुल का निरीक्षण किया। मौके पर ही पीडब्ल्यूडी एवं नगर निगम के अधिकारियों को पुल के नव-निर्माण हेतु निर्देशित किया। शीघ्र ही इस पुल का निर्माण कार्य आरंभ होगा। ज्ञातव्य रहे कि पुल की स्थिति को देखते हुए नगर निगम ने विगत दिनों पुल के दोनों तरफ दीवार का निर्माण करवाया था, जिसका मकसद स्पष्ट था कि पुल के गिरने पर किसी तरह का भी नुकसान ना हो।

तत्कालीक रूप से बारिश के पानी निकासी हेतु पुल के निकट क्षेत्र में अधिकारियों को त्वरित गाटर स्थापित करने के भी निर्देश दिए, जिससे कि जल निकासी की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित हो सके।

मौके पर स्थानीय पार्षद डॉ विजेंद्र पाल सिंह , नगर निगम के एक्सध्एन अनुपम भटनागर , पीडब्ल्यूडी के जोशी , नगर निगम के जे.ई कर्मवीर सिंह एवं स्थानीय जनता उपस्थित रही।

-नदियां उफान पर

उत्तराखंड में मंगलवार देर रात से हो रही बारिश ने कहर बरपाना शुरू कर दिया है। लगातार बारिश से गंगा, यमुना समेत अन्य नदियां उफान पर आ गई हैं। नदी का जलस्तर बढ़ने से जहां ऋषिकेश में कई वाहन तेज बहाव में फंस गए तो अल्मोड़ा में एक स्कूटी सवार बह गया। वहीं हरिद्वार और ऋषिकेश में लगातार गंगा का जलस्तर बढ़ रहा है।

देहरादून में रिस्पना और बिंदाल नदी उफान पर आ गई है। वहीं पहाड़ी इलाकों में भी नदियां और बरसाती नालों का जलस्तर बढ़ गया है। बदरीनाथ, केदारनाथ और यमुनोत्री हाईवे सहित कई संपर्क मार्ग बंद हो गए हैं।

राजधानी देहरादून में रात से बारिश जारी है। जिससे शहर में जलभराव हो गया है। दून में रिस्पना और बिंदाल नदी का जलस्तर बढ़ गया है। मसूरी के कैंपटी फॉल में जलस्तर बढ़ने से पुलिस ने यहां पर्यटकों के जाने पर रोक लगा दी है। वहां मौजूद पर्यटकों को वापस भेजा गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

Students’ Results & Teachers’ Competency

D. K. Budakoti Will the people in the field of Educational Psychology agree to say that students’ results in schools should actually be reflecting the competency of teachers rather than of the students? Thus parents teachers meeting-PTA, should be a nightmare for some teachers rather than for parents.