हास्टल दिलाने के नाम पर रिटायर्ड डिप्टी कमिश्नर से करोड़ों की ठगी, नौ लोगों के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज

Ghughuti Bulletin

देहरादून:  आबकारी और कराधान विभाग दिल्ली से रिटायर डिप्टी कमिश्नर से हास्टल दिलाने के नाम पर ठगी कर करोडों रुपये हड़पने का मामला प्रकाश में आया है। रिटायर्ड डिप्टी कमिश्नर ने प्रथमिकी दर्ज कर प्रेमनगर अंतर्गत कोल्हूपानी में हास्टल दिलाने के नाम पर नौ व्यक्तियों पर उनसे तीन करोड़ 65 लाख रुपये की ठगी करने का आरोप लगाया है। तहरीर के आधार पर थाना प्रेमनगर पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

थाना प्रेमनगर से मिली जानकारी के अनुसार शिकायतकर्ता विजय यादव निवासी रेल विहार गुरुग्राम हरियाणा ने बताया कि वह 2018 में सेवानिवृत्त हुए थे। इसके बाद उन्होंने देहरादून में कारोबार शुरू करने की योजना बनाई। जिसे लेकर राकेश त्यागी निवासी प्रेमनगर जो कि मूल रूप से हरियाणा के रहने वाला हैं ने उन्हें प्रेमनगर कोल्हूपानी स्थित अपना जिया हास्टल खरीदने की सलाह दी।

जिसके चलते 14 अप्रैल 2019 को दोनों पक्षों के बीच सोनीपत हरियाणा में फाइनल समझौता होना निश्चित हुआ। इस दौरान तय हुआ कि राकेश त्यागी जिया होस्टल का भवन व जमीन सारे सामान के साथ तीन करोड़ 65 लाख रुपये में बेचेगा। इसी दिन पीड़ित ने आरोपित को 22 लाख रुपये अग्रिम भुगतान के रूप में दे दिए।

कुछ दिन बाद सौदे की संपत्ति की पड़ताल करने पर पीड़ित को पता लगा कि होस्टल बिना नक्शा पास किए बना हुआ है और एमडीडीए ने होस्टल को ध्वस्त करने के लिए नोटिस चस्पा कर रखा है।

इसके बाद 15 मई 2019 को जब पीड़ित आरोपित राकेश त्यागी को मिला और इस बाबत बताया तो राकेश ने विश्वास दिलाया कि नक्शा पास वह खुद करवाएगा। इसके लिए राकेश त्यागी ने उनसे नक्शा पास करवाने के लिए दो करोड़ रुपये मांगे।

इसके बाद 21 मई 2019 को आरोपित राकेश त्यागी ने विजय यादव को होस्टल पर कब्जा दे दिया। वहीं त्यागी ने 28 फरवरी 2020 को विजय यादव से 58 लाख 39 हजार रुपये अलग.अलग खर्चे के रूप में ले लिए। इसके बाद राकेश त्यागी ने जब और पैसे मांगे व रजिस्ट्री करने को कहा तो पीडि़त ने आरोपित को मेल भेजी कि शेष रकम तब दी जाएगी जब नक्शा पास हो जाएगा। इसके बाद पीड़ित अपने वकील के साथ आरोपित के घर पहुंचा तो आरोपित ने फिर कहा कि जल्द नक्शा पास हो जाएगा। उस दिन भी विजय यादव ने 25 लाख रुपये आरोपित राकेश त्यागी के खाते में डाले। इस तरह विभिन्न किश्तों में आरोपित ने तीन करोड़ 65 लाख रुपये ठग लिए।

इतना सब कुछ होने के बाद 21 मई 2020 को आरोपित ने अपने साथियों के साथ मिलकर फर्जी दस्तावेज बनाकर होस्टल पर कब्जा कर लिया। साथ ही 30 मई को आरोपित राकेश त्यागी ने पीड़ित विजय यादव को अपने वकील से नोटिस भिजवाया कि उन्होंने राकेश त्यागी को होस्टल पर कब्जा किया है ।

एसओ प्रेमनगर धनराज बिष्ट ने बताया कि आरोपित राकेश त्यागी उसके साथी राजेंद्र सिंह, करण सिंह, दीपक कुमार व विजय कुमार पांचों निवासी कोल्हूपानी विकासनगर प्रेमनगर व रामकुमार त्यागी निवासी ग्राम टिकोला जिला सोनीपत हरियाणा, राजबीर निवासी ग्राम गणेशपुर पोस्ट मवाना जिला मेरठ उत्तर प्रदेश, राम नरेश निवासी ग्राम टिकोला जिला सोनीपत हरियाणा, अवनीत निवासी मोहम्मदपुर कदीम गाजियाबाद उत्तर प्रदेश के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कोविड वैक्सीन की दोनों डोज लगे व्यक्तियों को ही, अन्य राज्यों से उत्तराखंड आने की मिलेगी छूटः मुख्यमंत्री

देहरादून:  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आदेश जारी करते हुए कहा है कि अन्य राज्यों से उत्तराखंड आने वाले उन्हीं व्यक्तियों को कोरोना जांच की निगेटिव रिपोर्ट से छूट दी जाएगी, जिन्होंने आने से 15 दिन पहले कोराना वैक्सीन की दोनों डोज लगवा ली हों। कोराना की तीसरी लहर की […]