लोकतंत्र के लिए पत्रकारिता एक महत्वपूर्ण स्तंभ: सीएम धामी

Ghughuti Bulletin

पंतनगर: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को पंतनगर में नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट (इंडिया) उत्तराखण्ड द्वारा आयोजित प्रांतीय अधिवेशन में प्रतिभाग किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि लोकतंत्र के लिए पत्रकारिता एक महत्वपूर्ण स्तंभ है। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता पारदर्शी होनी चाहिए एवं आम आदमी से जुड़ी होनी चाहिए, मुख्यमंत्री ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि हमारे राज्य में इसी प्रकार की पत्रकारिता रही है।

पत्रकार अधिवेशन में सीएम धामी ने अपने कॉलेज के दिनों को याद करते हुए कहा कि उनके घर में अखबार नहीं आता था। चाय वाले की दुकान पर जाकर अखबार पढ़ते थे। उस अखबार को 50 से 100 लोग पढ़ते थे। अखबार के जरिये ही उन्हें पता चलता था कि देश दुनिया अमेरिका व सोवियत संघ में क्या  चल रहा है। बड़े बड़े सम्पादकीय पढ़ा करते थे, दो ढाई घण्टे तक अखबार पढ़ा करते थे।

सीएम ने यह भी कहा कि चुनाव से पहले प्रदेश की जनता से किए गए वादों के अनुरूप सरकार काम कर रही है, प्रदेश में यूनिफॉर्म सिविल कोड को लागू करने की दिशा में सरकार ने काम शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में सड़कों के क्षेत्र में अभूतपूर्व कार्य हुए हैं। उन्होंने कहा कि जल्द ही ऊधमसिंह नगर में एम्स की सुविधा भी मिल सकेगी जिसका शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कर दिया है।

इसके अलावा मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले 2 सालों से चारधाम यात्रा बाधित थी लिहाज़ा इस साल यह यात्रा विधिवत रूप से शुरू हो चुकी है। उन्होंने कहा यह यात्रा एक ऐतिहासिक यात्रा बनेगी, इस बार हमारी कल्पना से भी अधिक श्रद्धालु आ रहे हैं लेकिन सरकार के स्तर पर पूरी मॉनिटरिंग की जा रही है।

कार्यक्रम में कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल , नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट (इंडिया) उत्तराखण्ड के पदाधिकारी समेत बड़ी संख्या में पत्रकार मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर हरिद्वार में उमड़ा श्रद्धालुओं का सैलाब, सीएम एवं राज्यपाल ने दी शुभकामनाएं

देहरादून : बुद्ध पूर्णिमा के शुभ अवसर पर स्नान के लिए हरिद्वार में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ा है। स्नान के लिए एक दिन पहले से ही धर्मनगरी में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ गई थी। होटल धर्मशालाएं सभी फुल होने से कई श्रद्धालुओं को गंगा घाटों पर ही रात गुजारनी पड़ी। […]