देश के शहरों में वायु प्रदूषण से बुरा हाल, जानिए कितने लोगों ने गवई प्रदुषण के कारण अपनी जान

Ghughuti Bulletin

देहरादून : देश के शहरों में वायु प्रदूषण का बुरा हाल है। एक अंतरराष्ट्रीय अध्ययन में पाया गया है कि वर्ष 2005 से 2018 के बीच भारत के आठ शहरों में वायु प्रदूषण के कारण एक लाख लोगों की असमय मौत हुई है।
नासा व यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के उपग्रहों से मिले आंकड़ों के विश्लेषण के आधार पर यह चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। ये आठ शहर हैं मुंबई, बंगलुरु, कोलकाता, हैदराबाद, चेन्नई, सूरत, पुणे और अहमदाबाद। ब्रिटेन के बर्मिघम विश्वविद्यालय और यूसीएल के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में किए गए इस अध्ययन से पता चला है कि तेजी से बढ़ते प्रदूषण के कारण 14 सालों में लगभग 1,80,000 लोगों की असमय मौतें हुई हैं। वैज्ञानिकों की टीम ने 2005 से 2018 के दौरान नासा और यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ईएसए) के उपग्रहों से प्राप्त जानकारी का विश्लेषण कर यह दावा किया है।
इन शहरों में किया गया अध्ययन
दक्षिण एशिया : अहमदाबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, चटगांव, ढाका, हैदराबाद, कराची, कोलकाता, मुंबई, पुणे और सूरत।
दक्षिण पूर्व एशिया: बैंकॉक, हनोई, हो ची मिन्ह सिटी, जकार्ता, मनीला, नोम पेन्ह और यांगून
मध्य-पूर्व: रियाद और सना
अफ्रीका: आबिदजान, अबुजा, अदीस अबाबा, एंटानानारिवो, बमाको, ब्लैंटायर, कोनाक्री, डकार, दार एस सलाम, इबादान, कडुना, कंपाला, कानो, खार्तूम, किगाली, किंशासा, लागोस, लिलोंग्वे, लुआंडा, लुबुम्बाशी, लुसाका, मोम्बासा, एन’जामेना, नैरोबी, नियामी और औगाडौगौ I

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

पत्रकारों की पेंशन वृद्धि की मांग पर मुख्यमंत्री की सहमति . उत्तरांचल प्रेस क्लब भवन निर्माण के लिए घोषित धनराशि जल्द होगी अवमुक्त

-नंदा गौरा योजना और महालक्ष्मी योजना का लाभ भी मिले पत्रकारों को देहरादून: उत्तराखंड पत्रकार यूनियन की तरफ से राज्य के पत्रकारों को अनुमन्य पेंशन राशि में वृद्धि किए जाने की मांग पर सहमति जताते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा ये यूनियन की जायज मांग है, और सभी […]