कुदरत ने दिखाया रौद्र रूप

Ghughuti Bulletin


गांव में जमीन फटी, घरों में पड़ी दरारें

पिथौरागढ़: उत्तराखंड में लगातार हो रही बारिश मुसीबत बन चुकी है। पिछले कुछ समय से पिथौरागढ़ जिले में कुदरत कहर बरपा रहा है। अब इस बीच जिले से बड़ी खबर मिली है। भारी बारिश के कारण मुनस्यारी के सैणराथी गांव के ऊपरी हिस्से में जमीन फट गई। गांव के एक बड़े भूभाग में जमीन पर बड़ी-बड़ी दरारें पड़ गई हैं। इन दरारों की चौड़ाई कुछ स्थानों पर 15 सेंटीमीटर से अधिक है।

जमीन दरकने से खतरे की जद में आए गिरगांव और भंडारीगांव में मकान टुकड़ों में तब्दील हो रहे हैं। थल- मुनस्यारी मोटर मार्ग में स्थित गिरगांव और भंडारीगांव में पिछले एक माह से जमीन दरक रही है। जाकुला नदी से लेकर गांव तक जमीन धंसने से मकान धीरे-धीरे टूटकर कई हिस्सों में बंट रहे हैं। प्रभावित परिवारों को प्रशासन ने सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट करा दिया है। गुरुवार को मकान के खतरे में आने पर राजस्व विभाग ने कैलाश सिंह के परिवार को भी सुरक्षित स्थान पर भेजा है।

सामाजिक कार्यकर्ता भगत सिंह बाछमी ने बताया कि जमीन धीरे-धीरे धंसती जा रही है। घरों और खेतों में दरारें पड़ने से ग्रामीण चिंतित हैं। राजस्व गांव खेता के ऊपरी हिस्से में दरारें पड़ने और भूस्खलन होने से आधा दर्जन मकान खतरे की जद में आ गए हैं। शेर सिंह, हरमल सिंह, गंगा सिंह, कुंवर सिंह, शेर सिंह, पुष्पा देवी, लाल सिंह, बीडीसी सदस्य नेहा मेहता ने प्रशासन से तत्काल जमीन की सुरक्षा के इंतजाम करने और उचित मुआवजे की मांग की है।

एसडीएम मुनस्यारी अभय प्रताप सिंह का कहना है कि आपदा प्रभावित गांवों में राजस्व टीम को भेजा गया है। जो मकान खतरे की जद में आए हैं उन परिवारों को शिफ्ट किया गया है। शीघ्र ही क्षेत्र का भूगर्भीय सर्वेक्षण किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए उत्तराखंड के पास अब कोविड वैक्सीन की कोई कमी नहीं

देहरादून:  सरकार ने दिसंबर 2021 तक अलग-अलग आयु वर्ग में शत प्रतिशत लोगों को कोविड वैक्सीन लगाने का लक्ष्य रखा है। सरकार की तरफ से पैरवी करने के बाद केंद्र सरकार की ओर से राज्य को पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन दी जा रही है। जिससे वर्तमान में प्रदेश के पास […]