मंकीपॉक्स को शुरुआती चरण में रोकने के लिए हर संभव प्रयास करना जरुरी: डब्ल्यूएचओ

Ghughuti Bulletin

देहरादून: मंकीपॉक्स के बढ़ते मामलों को लेकर वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन सहित दुनियाभर के बड़े स्वास्थ्य संगठनों ने चिंता जताई है। डब्ल्यूएचओ इस बीमारी को रोकने के लिए कड़ी कार्रवाई कर रहा है। संगठन के कहना है कि यह वायरस शुरुआती चरण में है और इसे रोकने के लिए हर संभव प्रयास करने बहुत जरूरी हैं।

डब्ल्यूएचओ ने कहा कि विश्व के गैर स्थानिक 27 देशों में मंकीपाक्स के 780 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। गैर स्थानिक वो देश हैं जहां यह बीमारी बाहर से आई है। 29 मई के बाद से गैर स्थानिक देशों में मंकीपाक्स के मामलों में 203 प्रतिशत से ज्यादा की वृद्धि हुई है।

डब्ल्यूएचओ ने कहा कि 13 मई से दो जून के बीच इन देशों में मंकीपाक्स के कुल मामले 257 से बढ़कर 780 हो गए हैं। इस तरह में इनमें 523 की बढ़ोतरी हुई है। हालांकि, इन देशों में मंकीपाक्स की वजह से अभी किसी की मौत होने की खबर नहीं है।

डब्ल्यूएचओ की अधिकारी मारिया वैन कारखेव ने कहा है कि मंकीपॉक्स क्या है और क्या नहीं, इसके बारे में जागरूकता बढ़ानी होगी। इस वायरस को लेकर हमें निगरानी बढ़ानी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

कम्पनी पर लगाया करोड़ों का राजस्व हड़पने का आरोप

देहरादून: उत्तराखन्ड क्रान्तिदल (डेमोक्रेटिक) ने स्यान इन्फास्ट्रक्चर कंपनी पर करोड़ों रूपये के राजस्व को हड़पने का आरोप लगाया है। स्यान कंम्पनी कोडियाला से देवप्रयाग के बीच में सड़क निर्माण का कार्य कर रही है। यूकेडी का आरोप है कि स्यान इन्फास्ट्रक्चर कंपनी ने पाच करोड़ रूपये के राजस्व की प्राप्ति […]