जल संरक्षण कार्यक्रम का आयोजन

Ghughuti Bulletin

रुद्रप्रयाग:  विकासखण्ड अगस्त्यमुनि के राइंका पीड़ा धनपुर के छात्र-छात्राओं के बीच नेहरू युवा केंद्र की ओर से जल संरक्षण कार्यक्रम के तहत कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि के तौर पर वरिष्ठ पत्रकार रमेश पहाड़ी ने किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि बच्चे जल स्रोतों की स्वच्छता को बनाये रखने एवं वर्षा जल संचयन करने में अपनी अहम भूमिका निभाएंगे. साथ ही औरों को भी जल स्रोतों की सफाई और जल संरक्षण के प्रति जागरूक करेंगे।

वरिष्ठ पत्रकार रमेश पहाड़ी ने सच्चिदानंद भारती के उल्लेखनीय प्रयासों और अन्ना हजारे के प्रेरक कार्य एवं वाटर मैन ऑफ इंडिया राजेंद्र सिंह के प्रेरणादायक प्रयासों को बच्चों के बीच साझा करते हुए कहा कि पानी का अधिकतम सदुपयोग और न्यूनतम दुरुप्रयोग करने पर जोर देना चाहिए।

वहीं, जिला युवा अधिकारी राहुल डबराल ने 1 से 6 मार्च तक चलने वाले कृमि मुक्ति सप्ताह की जानकारी देते हुए बताया कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से आंगनबाड़ी एवं एएनएम कार्यकर्ताओं की सहायता से 1 से 19 वर्ष की आयु के बच्चों को कृमि मुक्त दवाइयां उपलब्ध कराई जाएंगी।
उन्होंने बताया कि कक्षा 6 से 12 तक के बच्चों को स्कूलों में और छोटे बच्चों को घर-घर जाकर दवाई उपलब्ध कराई जाएगी। वहीं, जिला युवा अधिकारी ने विद्यालय में वर्षा जल संचयन के लिए बनाए गए।

दस हजार लीटर की क्षमता वाले भूमिगत टैंक की सराहना करते हुए कहा कि प्रधानाचार्य के प्रयासों से बने इस भूमिगत टैंक की पहल को अन्य विद्यालयों को भी अपनाना चाहिए।

वहीं, प्रधानाचार्य अवनीश भारती ने कहा कि भविष्य में जल संकट से बचने के लिए वर्षा जल का संचयन अति आवश्यक है। हम सबको एकजुट होकर इस विषय पर गंभीरता से सोचना होगा। साथ ही दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करना होगा। इसके लिए प्रधानाचार्य ने बच्चों को जल संचयन की शपथ भी दिलाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

घटिया निर्माण की खुली पोल, पुलिया टूटी

रुद्रप्रयाग:  एनीपीसीसीएल (नेशनल प्रोजेक्ट्स कंस्ट्रक्शन कॉर्पोरेशन लिमिटेड) के निर्माणाधीन गैड़-गड़गू मोटरमार्ग पर भारी वाहनों के चलने से पुलिया क्षतिग्रस्त हो गई है। ऐसे में विभाग एवं कार्यदायी संस्था की कार्यप्रणाली सवालों के घेरे में आ गयी है। पुलिया के क्षतिग्रस्त होने से ग्रामीणों में एनीपीसीसीएल व कार्यदायी संस्था के खिलाफ […]