कोरोना काल में जनता की सुरक्षा के मामले में प्रदेश सरकार विफलः जोत सिंह

मसूरी: कोराना काल में भी राजनीतिक दलों का एक दुसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है। प्रदेश कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट ने मसूरी में पत्रकारों से वार्ता के दौरान सरकार पर आरोप लगाया कि सरकार कोरोना से निपटने में पूरी तरह से नाकाम रही। उन्होंने कहा कि सरकार ने इसके लिए कोई तैयारी नहीं की थी।

उन्होंने राज्य सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि राज्य सरकार कुंभ कराने में मस्त रही और केंद्र सरकार बंगाल चुनाव में जनता के लिए कुछ नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि भाजपा शासन में केवल घोषणाएं की जाती है।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत द्वारा ब्लैक फंगस को महामारी तो घोषित कर दिया गया लेकिन उससे निपटने के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घोषणा की गई थी कि देश के प्रत्येक स्वास्थ्य केंद्रों में 30 बेड का कोविड केयर सेंटर बनाया जायेगा, लेकिन इसके लिए किसी प्रकार का धन आवंटन नहीं किया गया है।

उन्होंने स्वास्थ्य विभाग पर निशाना साधते हुए कहा कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर कोविड टेस्ट कराये जाने को लेकर स्वास्थ विभाग के पास कोई इंतजाम ही नहीं हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य विभाग के पास कोविड के सैंपल लेने के लिए न टीम है और ना ही कोई लैब. ऐसे में कोरोना की जांच कैसे होगी।

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार जुमले और झूठी घोषणा करने में विश्वास रखती है। यही कारण है की भारत देश दुनिया में कोरोना संक्रमण की दर में तीसरे नंबर पर है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड प्रदेश के गांव के हालत बद से बदतर है।

उत्तराखंड कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट ने कहा कि कोविड के दौरान बच्चों की शिक्षा प्रभावित हो रही है। अगर सरकार चाहती तो इसको लेकर ग्लोबल योजना तैयार कर सकती थी।

सरकार ने 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीन देने का ऐलान तो कर दिया, लेकिन राज्य में वैक्सीन नहीं है। युवा वैक्सीन लगाने के लिये दर-दर भटक रहे हैं। पंजीकरण हो नहीं रहा है, ऐसे में सरकार की तैयारियों पर उन्होंने सवाल उठाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

निजी अस्पतालों की मनमानी के खिलाफ उक्रांद ने दिया धरना

हल्द्वानी:  यूकेडी के पूर्व केंद्रीय महामंत्री सुशील उनियाल ने प्रदेश में कोरोनाकाल में चरमराई स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर एक दिवसीय धरना दिया। इसके अलावा सुशील उनियाल ने कोरोना वॉरियर्स के रूप में काम कर रहे डॉक्टर, नर्स, पुलिसकर्मी और विभागों के कर्मचारियों का एक करोड़ रुपये का बीमा करने की […]