सैकड़ों किसानों ने किया राजभवन कूच

Ghughuti Bulletin

पुलिस ने हाथीबड़कला चैकी पर रोका
सभा आयोजित कर सरकार पर बरसे किसान
कृषि कानूनों को निरस्त  करने के लिए राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन

देहरादून:  नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर संयुक्त किसान मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने दिल्ली में किसानों के समर्थन में राजभवन कूच किया। हालांकि प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने न्यू कैंट रोड स्थित हाथीबड़कला चैकी के पास बैरिकेडिंग लगाकर रोक दिया। जिसके बाद प्रदर्शनकारी वहीं सड़क में बैठ गए और वहां एक सभा का आयोजन किया।

इससे पहले किसान मोर्चा के आह्वान पर दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन का समर्थन करने के लिए प्रदर्शनकारी गांधी पार्क के सामने एकत्रित हुए। उसके बाद पैदल मार्च निकालते हुए प्रदर्शनकारी दिलाराम चैक से होते हुए जब न्यू कैंट रोड पहुंचे, तो पुलिस में बैरिकेडिंग लगाकर संयुक्त किसान मोर्चा के कार्यकर्ताओं को वहीं रोक दिया। प्रदर्शनकारियों ने जिला प्रशासन के माध्यम से तीनों कृषि कानूनों को निरस्त किए जाने को लेकर राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन भी प्रेषित किया है।

डोईवाला के सैड़कों किसान ट्रेक्टर-ट्राली लेकर पहुंचे

कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का केंद्र सरकार के साथ टकराव जारी है। किसान लगातार कृषि कानून वापस लेने की मांग पर अड़े हैं। कई दौर की वार्ता के बाद भी किसान सरकार से सहमत नहीं हैं।

इसी कड़ी में डोईवाला के करीब 300 किसानों ने ट्रैक्टर लेकर राजभवन कूच किया। इस दौरान किसानों का पुलिस के साथ टकराव भी हुआ। पुलिस ने किसानों को डोईवाला फ्लाईओवर के नीचे रोकने की कोशिश की।

बता दें, कृषि कानून के विरोध में डोईवाला के सैकड़ों किसान ट्रैक्टर-ट्रॉली लेकर देहरादून राजभवन का घेराव करने के लिए निकले। डोईवाला के लच्छीवाला फ्लाईओवर और टोल टैक्स बैरियर पर भारी संख्या में पुलिस बल और पीएससी ने किसानों को रोकने की कोशिश की।

लच्छीवाला टोल प्लाजा बैरियर पर किसानों और पुलिस के बीच भारी टकराव देखने को मिला। पुलिस ने बैरिकेडिंग और गाड़ियों लगाकर ट्रैक्टरों को रोकने की कोशिश की, लेकिन किसानों ने बैरिकेडिंग तोड़कर और डिवाइडर हटाकर देहरादून के लिए कूच किया।

किसानों का कहना है कि जब तक तीनों काले कानून वापस नहीं होंगे, किसान चुप चुप नहीं बैठेंगे। इसको लेकर किसान देहरादून के लिए निकल पड़े हैं, जो राजभवन का घेराव करने जा रहे हैं। जानकारी मिली है कि किसानों को हर्रावाला के नजदीक भी रोकने की कोशिश की जा रही है। पुलिस और किसानों के बीच भारी टकराव देखने को मिल रहा है।

मुकदमा दर्ज होने पर बढ़ सकती हैं मुश्किलें

हर्रावाला हाईवे पर किसानों का उग्र रूप देख पुलिस ने कड़ी चेतावनी दी है। देहरादून पुलिस ने किसानों को मुकदमा दर्ज कर सख्ती करने की चेतावनी दी है। इसके साथ ही पुलिस ने कहा है कि जिस भी किसान के ऊपर अगर कानूनी कार्रवाई की गई तो उसके बाद उनके न तो लाइसेंस बन पाएंगे और ना ही पासपोर्ट और नौकरी जैसे विषयों पर कोई आवेदन नहीं कर पायेगा।

रुड़की से भी दून पहुंचे किसान

कृषि कानूनों के विरोध में विभिन्न किसान संगठनों के किसान बड़ी तादाद में मंगलौर गुड़ मंडी में इकठ्ठा हुए और देहरादून के लिए रवाना हुए। इस दौरान भारी पुलिस फोर्स तैनात रही। दरअसल, किसान संगठनों ने आज गवर्नर हाउस घेराव का ऐलान किया था, जिसके तहत बड़ी तादाद में किसान अपनी अपनी गाड़ियों से मंगलौर गुड़ मंडी में पहुंचे। जहां से काफिले के रूप में देहरादून के लिए रवाना हुए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कांग्रेसियों ने दी नेताजी सुभाष चन्द्र बोस को श्रद्धांजलि

देहरादून: उत्तराखण्ड प्रदेश कांगे्रस कमेटी मुख्यालय में कांगे्रस कार्यकर्ताआंे ने महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के जयन्ती के अवसर पर उन्हें श्रद्वासुमन अर्पित किये। इस अवसर पर प्रदेश महामंत्री नवीन जोशी ने कहा कि सुभाष चन्द्र बोस हम सबके आदर्श थे और हमें उनके पदचिन्हों में चलकर […]