गुलेल से कार के शीशे फोड़कर की चोरी, पुलिस ने शातिर को किया गिरफ्तार

Ghughuti Bulletin

देहरादून: गुलेल से कार के शीशे फोड़कर चोरी की घटना को अंजाम देने वाले गिरोह के तीन शातिरों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उनके पास से चोरी का सामान भी बरामद हुआ है। ये तीनों दिल्ली से यहां आकर वारदात करते थे। इसके अलावा पुलिस ने चोरी की अन्य घटनाओं में शामिल रहे पांच अन्य को भी गिरफ्तार किया है।

रविवार को एसएसपी कार्यालय में पत्रकारों से वार्ता के दौरान डीआइजी जन्मेजय खंडूड़ी ने बताया कि वसंत विहार क्षेत्र में गुलेल से शीशे फोड़कर कार से सामान चुराने वाले दिल्ली के गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में 18 अक्टूबर को ऋषभ शाह निवासी नारायण विहार ने पुलिस को तहरीर दी थी। उन्होंने बताया था कि शाम को जीएमएस रोड स्थित अलकनंदा एन्क्लेव में वह अपनी कार खड़ी करके दुकान में सामान लेने गए थे। थोड़ी देर बाद जब वह लौटे तो देखा कि कार का बाईं ओर का शीशा टूटा हुआ था और पिछली सीट पर रखा बैग गायब था। उसमें लैपटाप व अन्य सामान था। वसंत विहार थाना पुलिस ने आसपास के सीसीटीवी कैमरे चेक किए तो उसमें दिल्ली नंबर की एक कार दिखाई दी। कार के नंबर के आधार पर पुलिस ने 13 नवंबर की शाम को वसंत विहार क्षेत्र से तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया।

उनकी पहचान मनीष उर्फ मोनू निवासी बुराड़ी नार्थ दिल्ली, संदीप चौहान निवासी संतनगर बुराड़ी जिला नार्थ दिल्ली और महेंद्र कुमार उर्फ फौजी निवासी सत्य विहार कालोनी बुराड़ी जिला नार्थ दिल्ली के रूप में हुई है। पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि वह गुलेल से कार के शीशे फोड़ते हैं और अंदर रखा सामान चुरा लेते हैं। पुलिस ने उनके पास से एक लैपटाप, एक गुलेल व घटना में इस्तेमाल की गई कार बरामद की है। अन्य चोरी की घटनाओं से संबंधित पांच लैपटाप भी बरामद किए गए हैं। आरोपितों ने ये लैपटाप दिल्ली से चुराए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

छात्रों को रक्षा तकनीक में बनाएंगे दक्ष, विवि का उद्देश्य है स्टार्टअप और शोध कार्यों को बढ़ावा देना

देहरादून: वीर माधो सिंह भंडारी उत्तराखंड प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति डा.पीपी ध्यानी ने कहा कि तकनीकी शिक्षा प्राप्त कर रहे विद्यार्थियों को रक्षा तकनीक में दक्ष किया जाएगा। विवि का उद्देश्य स्टार्टअप और शोध कार्यों को बढ़ावा देना है, जिससे हमारा देश रक्षा के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बन सकेगा। उत्तराखंड प्रौद्योगिकी […]