टिहरी झील महोत्सव का 16 व 17 फरवरी को कोटी कालोनी में होगा भव्य आयोजन

देहरादून:  पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने अवगत कराया कि आगामी 16 व 17 फरवरी को टिहरी के कोटी काॅलोनी में टिहरी झील महोत्सव-2021 का भव्य आयोजन किया जायेगा। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने बताया कि ‘‘विश्व मानचित्र में विशिष्ट पहचान दिलाने व पर्यटन की गतिविधियों को बढ़ावा देते हुए स्थानीय युवाओं को रोजगार मुहैया कराकर उनकी आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने के उद्देश्य से दो दिवसीय टिहरी महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है।

पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ने बताया कि ‘‘कोविड महामारी के बाद पर्यटन के पुर्नरूद्धार के लिए राज्य सरकार लगातार प्रयास कर रही है। मुझे पूरा विश्वास है कि हम दोबारा उत्तराखण्ड पर्यटन को एक नये मुकाम तक पहुंचायेंगे। हमें टिहरी झील महोत्सव में पर्यटन की दृष्टि से अच्छा रूझान मिलने की उम्मीद है।’’
टिहरी महोत्सव की नोडल अधिकारी पूनम चंद ने बताया कि टिहरी झील महोत्सव में पर्यटकों हेतु विभिन्न प्रकार की साहसिक गतिविधियां यथा वाटर स्पोर्ट्स में बोटिंग, जेटस्की, बनाना राईड, सर्फिंग, क्याकिंग, केनोइंग, स्कूवा डाइविंग, लैण्ड स्पोर्ट्स प्रतियोगिता में मांउटेन टरेन बाइकिंग, एटीवी बाईक, तीरअन्दाजी, एयरो स्पोर्ट्स में पैराग्लाईडिंग, पैरामोटर, हाॅट ऐयर बलून आदि उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद के साहसिक विंग के दिशा निर्देशन में आयोजन किया जायेगा।

टिहरी झील महोत्सव में उत्तराखण्ड की पारंपरिक देव डोलियों की शोभायात्रा भी निकाली जायेंगी जो आकर्षण का मुख्य केन्द्र होगी। टिहरी झील महोत्सव में प्रसिद्ध कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों की सुन्दर प्रस्तुतियां दी जायेंगी।

दो दिवसीय महोत्सव में विभिन्न प्रकार के हस्त शिल्प एवं स्थानीय उत्पादों की स्टाॅल प्रदर्शनी, विभिन्न प्रकार के स्थानीय पकवानों के स्टाॅल, पुरानी टिहरी एवं वर्तमान टिहरी शहर से जुड़ी विभिन्न प्रकार के चित्रों की प्रदर्शनी, टिहरी रियासत से जुड़ी पुरानी वस्तुओं की प्रदर्शनी का भी आयोजन किया जायेगा। दो दिवसीय महोत्सव में योग का भी आयोजन किया जायेगा।

टिहरी झील को सफल बनाने के लिए ईवा श्रीवास्तव जिलाधिकारी टिहरी द्वारा समितियों का गठन किया गया है। स्थानीय स्कूली छात्र-छात्राओं की ब्लाक स्तर पर ‘‘अपनी टिहरी’’ के नाम से पेन्टिंग व गायन-वादन, नृत्य प्रतियोगिताएं प्रत्येक ब्लाक स्तर पर करायी जा रही हैं।

इस प्रतियोगिता में प्रथम आने वाले बच्चों को टिहरी झील महोत्सव में प्रतिभाग का अवसर दिया जायेगा। देश-विदेश से आने वाले पर्यटकों को टिहरी के इतिहास व संस्कृति को बेहद रोचक तरीके से बता सकें।

जिसके लिए स्टोरी टेलिंग सैशन, हैरिटेज वाॅक व नेचर वाॅक के लिए स्थानीय 20 युवाओं को गाईड के तौर पर प्रशिक्षण दिया जायेगा, जिन्हें भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय द्वारा आयोजित आनलाईन गाईड ट्रेनिंग से भी जोड़ा जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

टिहरी बांध विस्थापितों ने सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज का आभार व्यक्त किया

पुनर्वास संबंधित समस्याओं का 2 माह में होगा समाधानः महाराज देहरादून:  टिहरी बांध परियोजना से प्रभावित 415 विस्थापित परिवारों की पुनर्वास संबंधी वर्षों पुरानी समस्याओं का सिंचाई मंत्री  सतपाल महाराज द्वारा राजकुमार सिंह, ऊर्जा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सरकार से समानधान करवाए जाने पर आज टिहरी बांध विस्थापितों का एक […]