दहेज प्रताड़ना: ससुरालियों से परेशान महिला ने दी जान

Ghughuti Bulletin

हल्द्वानीः लालकुआं कोतवाली क्षेत्र के बिंदुखत्ता गांधीनगर में एक महिला ने पंखे से लटककर जान दे दी। महिला के परिजनों ने ससुरालियों पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है।

बताया जा रहा कि दहेज प्रताड़ना के चलते महिला को उसका भाई बीते 5 अप्रैल को उसे अपने साथ महिला के ससुराल से मायके बिंदुखत्ता ले आया था। महिला का पति सेना में कार्यरत है। ससुराल पक्ष कार और दहेज के लिए दो साल से महिला को प्रताड़ित कर रहा था।

जानकारी के मुताबिक, बिंदुखत्ता गांधी नगर की रहने वाली मनीषा बोरा का दो साल पहले देहरादून निवासी सेना में तैनात जवान से शादी हुई थी। दोनों ने आर्य समाज मंदिर रुद्रपुर में शादी की थी। दोनों की लव मैरिज थी, लेकिन शादी के बाद से ही दोनों के बीच अनबन चल रही थी।

आरोप है कि महिला पर उसके पति और ससुराल वाले दहेज में कार समेत अन्य सामान लाने का दबाव डाल रहे थे। बीते दो महीने पहले जब महिला अपने मायके आई हुई थी। इस दौरान उसका पति भी उसके मायके आ पहुंचा।

आरोप है कि उस दौरान भी महिला के पति ने उसे छत से धक्का मार कर जान से मारने की कोशिश की थी। जिसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गई थी और कई दिनों तक अस्पताल में भर्ती रही।

दोनों परिवारों के बीच समझौता होने पर उसका पति उसे अपने घर देहरादून ले गया, लेकिन फिर उसके साथ प्रताड़ना शुरू कर दी। जिसके बाद महिला ने 5 अप्रैल को अपने भाई को फोन पर बताया कि ससुराल वाले उसे जान से मार देंगे।

जिस पर उसका भाई देहरादून पहुंच कर उसे बिंदुखत्ता ले आया। जिसके बाद से वो डिप्रेशन में चल रही थी।

बताया जा रहा है कि डिप्रेशन के चलते ही बीते रोज महिला ने पंखे से लटककर जान दे होगी।

वहीं, परिवार वालों ने महिला के ससुरालियों पर दहेज उत्पीड़न और प्रताड़ना का आरोप लगाते हुए पुलिस से न्याय दिलाने की गुहार लगाई है। समाचार लिखे जाने तक पुलिस में किसी ने भी कोई लिखित तहरीर नहीं दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

शिवानंद ने महाकुंभ को बताया इतिहास का कलंकित कुंभ

हरिद्वार: गंगा की अविरलता और निर्मलता की लड़ाई लड़ने वाली संस्था मातृ सदन के प्रमुख स्वामी शिवानंद ने महाकुंभ को इतिहास का कलंकित कुंभ बताया है। उनका कहना है कि जिस राज्य में अधर्म का बोलबाला होता है, वहां पर धर्म के कार्य करने में काफी कठिनाई आती है। जिसका […]