मौके का फायदा उठा युवक ने किया नाबालिग से दुष्कर्म, हॉस्टल वर्डन की शिकायत पर अरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज

Ghughuti Bulletin

देहरादून: सड़क पर अकेली देख मौके का फायदा उठाकर युवक द्वारा 14 वर्षीय नाबालिग छात्रा के साथ जबरन दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि मां के डांटने के बाद एक चौदह वर्ष की नाबालिग गुस्से में घर से निकल गई थी। इस दौरान आरोपी युवक की नजर उस पर पड़ी । जिसके बाद युवक ने जान से मारने की धमकी देकर उसके साथ दुष्कर्म किया। स्कूल खुलेने के बाद नाबालिग छात्रा ने अपने साथ घटित घटना को हॉस्टल की वार्डन को बताया। वार्डन की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

घटना के मुताबिक एसओ राजपुर मोहन सिंह ने बताया कि क्षेत्र में एक एनजीओ की ओर से आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों के रहने के लिए हॉस्टल संचालित होता है। यह हॉस्टल क्षेत्र में ही एक सरकारी स्कूल के कम्पाउंड में स्थित है। यहां के लीडर ने पुलिस को बताया कि उनके हॉस्टल में पढ़ने वाली 14 वर्ष की छात्रा भी रहती है।

वह लॉकडाउन में अपने घर चली गई थी। पिछले दिनों सरकार द्वारा स्कूल खोलने के आदेश जारी होने के बाद 21 तारीख को यह स्कूल भी खुला। छात्रा यहां आई तो उसने हॉस्टल की वार्डन को अपने साथ हुई घटना के बारे में बताया। 

छात्रा ने वर्डन को युवक प्रमोद सिंह पर आरोप लगाते हुए बताया कि गत 16 सितंबर को उसकी मां ने किसी बात पर उसे डांट दिया था। इसके बाद वह गुस्से में घर से निकल गई। रास्ते में उसे प्रमोद नाम का युवक मिला। प्रमोद उसे पहले से ही जानता था। वह उसे जबरदस्ती अपने साथ एक मकान में ले गया।

आरोप है कि यहां उसने छात्रा के साथ दुष्कर्म किया। उसके बाद मारपीट की और फिर किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी दी। एसओ ने बताया कि वर्डन की शिकायत पर मामले में मुकदमा दर्ज कर आरोपी की तलाश की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मुख्यमंत्री धामी ने किया सन्त शिरोमणि स्वामी वामदेव जी महाराज की प्रतिमा का अनावरण

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को हरिद्वार के आस्था पथ में ब्रह्मलीन वीतराग सन्त शिरोमणि स्वामी वामदेव जी महाराज की प्रतिमा का अनावरण किया। इस मौके पर उन्होंने सन्तों का अशीर्वाद भी लिया। मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि आस्था पथ स्थित यह वाटिका सन्त शिरोमणि स्वामी वामदेव के […]

You May Like