बचाव कार्य के लिए वायुसेना ने तैनात किए तीन हेलिकॉप्टर

देहरादून: भारतीय वायुसेना के अधिकारियों ने कहा, बाड प्रभावित क्षेत्रों में बचाव कार्यों में मदद के लिए देहरादून और आस-पास के क्षेत्रों में वायुसेना के दो एमआई-17 और एक एएलएच ध्रुव हेलिकॉप्टर सहित तीन हेलिकॉप्टर को तैनात किया गया है। जमीन पर आवश्यकता के अनुसार अधिक विमान तैनात किए जाएंगे।

एनडीआरएफ के डीजी एसएन प्रधान ने कहा, श्ग्लेशियर टूटने से ऋषिगंगा नदी प्रभावित हुई है और बाढ़ के कारण बीआरओ द्वारा बनाया जा रहा पुल बह गया है। ऋषिगंगा परियोजना की अपर रीच भी क्षतिग्रस्त हो गई है।

इससे चमोली, जोशीमठ और अन्य बहाव क्षेत्र प्रभावित होंगे। राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल एसडीआरएफ की टीमें पहले से ही जोशीमठ में तैनात हैं।

राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल एनडीआरएफ पहले ही देहरादून से जोशीमठ स्थानांतरित हो चुका है। हम दिल्ली से देहरादून के बाद जोशीमठ तक 3-4 और टीमों को एयरलिफ्ट करने की आयोजन बना रहे हैं।

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, श्उत्तराखंड में प्राकृतिक आपदा की सूचना के संबंध में मैंने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत , आईटीबीपी और एनडीआरएफ के महानिदेशकों से बात की है।

सभी संबंधित अधिकारी लोगों को सुरक्षित करने में युद्धस्तर पर काम कर रहे हैं। एनडीआरएफ की टीमें बचाव कार्य के लिए निकल गई हैं। देवभूमि को हर संभव मदद दी जाएगी।

एनडीआरएफ की कुछ और टीमें दिल्ली से एयरलिफ्ट करके उत्तराखंड भेजी जा रही हैं। हम वहां की स्थिति को निरंतर मॉनिटर कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

 बाध टूटने के बाद काम कर रहे 150 मजदूरों के गायब होने की आशंका

देहरादून:  चमोली जिले के जोशीमठ में एक ग्लेशियर टूटने से धौलीगंगा नदी में बाढ़ आने से। अधिकारियों ने बताया है कि इससे आसपास की आबादी खतरे में आ गई है।बताया जा रहा है कि  इससे पावर प्रोजेक्ट में काम कर रहे 150 मजदूर गायब हैं। इससे आसपास के गाँव में […]