उत्तराखंड सरकारी स्कूलों में एक नवंबर से फिर से पकेगा भोजन, पौष्टिकता और गुणवत्ता की नियमित होगी जांच

Ghughuti Bulletin

सरकारी स्कूलों में पकने वाले भोजन की पौष्टिकता और गुणवत्ता की नियमित रूप से जांच की जाएगी। इसके साथ ही हर जिले में छात्रों को दिए जा रहे भोजन और भोजन वितरण के नेटवर्क का सोशल आडिट भी अनिवार्य हो गया है।

देहरादून: उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों में पकने वाले भोजन की पौष्टिकता और गुणवत्ता की नियमित रूप से जांच की जाएगी। इसके साथ ही हर जिले में छात्रों को दिए जा रहे भोजन और भोजन वितरण के नेटवर्क का सोशल आडिट भी अनिवार्य हो गया है।

बता दें कि करीब डेढ़ साल बाद एक नवंबर से फिर से स्कूलों में भोजन बनना शुरू हो रहा है। इस योजना का नाम अब पीएम पोषण शक्ति निर्माण हो गया है। संयुक्त निदेशक पीएम पोषण पीके बिष्ट ने बताया कि सभी अधिकारियों को एक नवंबर से पका हुआ भोजन देने के निर्देश दे दिए गए हैं।

वर्तमान में पहली से आठवीं तक छात्रों की संख्या 6.97 लाख हो चुकी है। इस साल सरकारी स्कूलों में 30 हजार से ज्यादा नए छात्रों ने एडमिशन लिया हैं। उन्होंने कहा कि एक नवंबर से भत्ते के स्थान पर पका हुआ भोजन ही मिलेगा। स्कूल में भोजन न पकने की स्थिति में ही भत्ता दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

वेल्हम गर्ल्स में स्थापना दिवस शुरू

देहरादून: वेल्हम गर्ल्स स्कूल में 64वां स्थापना दिवस समारोह शुरू हो गया है। शुक्रवार को वार्षिक खेल.कूद प्रतियोगिता के साथ इसकी शुरुआत हुई। सबसे पहले खिलाड़ियों ने मार्च पास्ट किया। इसके बाद एथलेटिक्सए ट्रैक इवेंटए कराटे और एरोबिक्स के मुकाबले हुए। इन सभी प्रतियोगिताओं में छात्राओं ने अपने कुशल प्रदर्शन […]